Decide Your New Year Intelligently

Advertisements

कुछ मित्रों ने अभी से नव वर्ष की अग्रिम शुभकामना की प्रक्रिया प्रारम्भ कर दी है।
इस परिप्रेक्ष्य मे, मैं आप सब के समक्ष “राष्ट्रकवि श्रद्धेय रामधारी सिंह दिनकर ” जी की कविता प्रस्तुत कर रहा हूँ (आप स्वयं तय करे, कि बधाई अभी भेजना है या गुडीपाडवा पर)

👇ये नव वर्ष हमे स्वीकार नहीं,

है अपना ये त्यौहार नहीं!
है अपनी ये तो रीत नहीं,
है अपना ये व्यवहार नहीं।

Read More »